Elizabeth Xavier (left) an ASHA worker of Kurichi gram panchayat in Kottayam district of Kerala. ASHA workers in Kerala play a central role in Covid-19 response in the state but are demanding the status of workers.

COVID-19

ASHAs Within the ‘Kerala Model’ Lead Covid-19 Response, Get Little in Return

Our 16-state survey found that in Kerala, ASHAs, women health workers at the frontlines of India’s resistance to Covid-19, feel empowered and respected. Yet, their demands of being treated as a regularised workforce are ignored New Delhi/Kottayam (Kerala): “In the Covid-19 resistance, we are as active as doctors and nurses,” said Rajini Laiju, an woman health worker, or ASHA, from Kurichy gram panchayat in Kerala’s Changanaserry tehsil in the district of Kottayam. “Even though we are the least paid among everyone else on the Covid-19 team, our role is primary and important. This gives us immense satisfaction.”The upper limit of

Minara Begum (right), an ASHA worker from Assam. ASHAs in Assam have not been paid their regular honorariums for the last 3 months.

COVID-19

Promised, Mostly Never Paid: Rs 1,000 Covid Wage To Million Health Workers

Hyderabad: Minara Begum, 33, has reached breaking point. “If the government of Assam does not release my salary today, my kids will starve,” said the mother of four, her voice choked with emotion. “I have done many dharnas (protests) and agitatiations in the past. Now I am literally begging the government to send my money.” Her youngest son is two-years old.Minara Begum, is an Accredited Social Health Activist (ASHA) working in Assam’s eastern district of Kamrup Metro, one of a national volunteer cadre of over one million women health workers who serve as a crucial interface between India’s community and

COVID-19

10 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को 1000 रुपये की ‘कोविड सैलरी’: वादे ज्यादातर पूरे नहीं हुए

असम की रहने वालीं 33 साल की मीनारा बेगम चार बच्चों की मां हैं. उनका सबसे छोटा बेटा दो साल का है. वह रोते हुए कहती हैं कि अगर असम सरकार मेरी सैलरी आज नहीं देती है तो मेरे बच्चे भूखे मरेंगे. इसके लिए पहले मैंने कई धरने और आंदोलन किए हैं, लेकिन अब मैं सचमुच अपने पैसे के लिए सरकार से भीख मांग रही हूं.मीनारा बेगम एक मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (आशा) हैं जो असम के पूर्वी जिले कामरूप मेट्रो में काम करती हैं. मीनारा भारत की महिला स्वास्थ्य वर्कर्स के नेशनल वॉलेंटियर कैडर की 10 लाख से

COVID-19

कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई : गुस्सा और तनाव में भारत के फ्रंटलाइन वर्कर्स

रात के 9 बज रहे हैं. दिनभर की भाग-दौड़ के बाद अब लक्ष्मी सिंह खाने बैठी ही थीं कि सरपंच ने उन्हें बुला लिया.कई दिनों से पैदल चलकर अभी कुछ प्रवासी मजदूर उनके गांव पहुंचे थे. लक्ष्मी बीच में ही खाना छोड़कर उन लोगों को क्वारंटीन करने के लिए जरूरी कामों में जुट गईं. यह घटना मध्यप्रदेश के भिंड जिले के रानियां गांव की है.लक्ष्मी बताती हैं कि सबसे पहले समुदाय के जिस भी व्यक्ति में लक्षण होता है, वे लोग उसकी जांच करते हैं. इसके बाद ही डॉक्टरों का काम शुरू होता है. जब डॉक्टर गांव आते हैं तो